22 मार्च को श्री झंडेजी के आरोहण के साथ शुरू होगा मेला, दो साल बाद इस बार पूर्ण स्वरूप में लगेगा ऐतिहासिक झंडा मेला

देहरादून: प्रेम, सद्भाव, आस्था का प्रतीक देहरादून का ऐतिहासिक झंडा मेला दो साल बाद इस बार पूर्ण स्वरूप में लगेगा। फाल्गुन मास की पंचमी के दिन 22 मार्च से श्री झंडेजी के आरोहण के साथ मेला शुरू हो जाएगा। इस दिन सुबह से पुराने झंडेजी को उतारने की प्रक्रिया शुरू होगी। इस बार नए ध्वजदंड पर गिलाफ चढ़ाने की प्रक्रिया और पूजा के बाद शाम तीन से चार बजे के बीच झंडेजी का आरोहण किया जाएगा।

सोमवार को श्री गुरुरामराय दरबार में मेला प्रबंधन समिति की बैठक हुई। दरबार साहिब के सज्जादा गद्दीनशीन श्रीमहंत देवेंद्र दास महाराज के निर्देश पर समिति ने मेला आयोजन की रूपरेखा तैयार की।

मेला प्रबंधन समिति के व्यवस्थापक केसी जुयाल ने बताया कि इस बार देश-विदेश से बड़ी संख्या में संगत पहुंचने की उम्मीद है। उन्होंने बताया कि मेले के दौरान होने वाली प्रमुख गतिविधियों व उनके संचालन के लिए 50 समितियों का गठन किया गया है। मेला समिति के पदाधिकारियों को पुलिस प्रशासन का भरपूर सहयोग करने के साथ ही संगत की सुरक्षा व सुविधा के निर्देश दिए हैं। संगत के ठहरने की व्यवस्था एसजीआरआर पब्लिक स्कूल की विभिन्न शाखाओं के अलावा शहर के धर्मशालाओं और होटलों में की गई है। इस बार आठ बड़े, जबकि चार छोटे लंगर की व्यवस्था रहेगी।

झंडा मेला का कार्यक्रम

  • 12 मार्च: श्री दरबार साहिब के प्रतिनिधि सुबोध उनियाल पंजाब की पैदल संगत के लिए दरबार साहिब के सज्जादा गद्दीनशीन श्रीमहंत देवेंद्र दास महाराज का हुक्मनामा लेकर जाएंगे।
  • 14 मार्च : अराइंयावाला में श्रीझंडेजी का आरोहण किया जाएगा।
  • 15 मार्च : पैदल संगत का जत्था सहसपुर पहुंचेगा, श्री दरबार साहिब मेला आयोजन समिति की ओर से संगतों का सहसपुर में स्वागत होगा।
  • 16 मार्च : पैदल संगत कांवली होते हुए श्री दरबार साहिब पहुंचेगी। दरबार साहिब के सज्जादा गद्दीनशीन श्रीमहंत देवेंद्र दास महाराज जी की अगुआई में दर्शनी गेट पर परंपरानुसार पैदल संगत का स्वागत किया जाएगा।
  • 16 मार्च : संगत के श्री दरबार साहिब पहुंचने का सिलसिला शुरू होगा।
  • 19 मार्च : श्री झंडेजी के आरोहण के लिए तैयार किए गए ध्वजदंड को एसजीआरआर बाम्बेबाग से दरबार साहिब तक लाया जाएगा। इसी दिन गिलाफ सिलाई का कार्य भी शुरू हो जाएगा।
  • 21 मार्च : शाम को परंपरा के अनुसार पूर्व से आई संगतों की विदाई होगी।
  • 22 मार्च : सुबह 8 बजे से 9 बजे के बीच श्रीझंडे जी को उतराने का कार्यक्रम होगा।

सेवक और संगत द्वारा श्री झंडेजी को दही, घी, गंगाजल, पंचगब्यों से स्नान करवाया जाएगा।
सुबह 10 से दोपहर 2 बजे तक दरबार साहिब के सज्जादा गद्दीनशीन श्रीमहंत देवेंद्र दास महाराज संगत को दर्शन देंगे।

गिलाफ चढ़ाने की पक्रिया पूरी होने के बाद शाम 03 से 04 बजे के बीच श्री झंडेजी के आरोहण के साथ मेला शुरू हो जाएगा।

  • 24 मार्च : नगर परिक्रमा होगी।
  • 10 अप्रैल : रामनवमी के दिन मेला संपन्न होगा।

दुकानदार करा चुके हैं बुकिंग

मेला व्यवस्थापक केसी जुयाल ने बताया कि दो वर्ष के बाद कोरोना संक्रमण कम होने के साथ इस बार मेला पूर्व की भांति लगेगे। मेेले के लिए सभी प्रकार की दुकानें, झूले व चर्खियां संचालकों ने बुकिंग करवा दी है।

यह है एतिहासिक महत्व

सिखों के सातवें गुरु श्री गुरु हर राय के बड़े पुत्र श्री गुरु रामराय महाराज का जन्म सन 1646 ई. में जिला होशियारपुर के कीरतपुर (पंजाब) में हुआ था। श्री गुरु रामराय जी महाराज ने देहरादून को अपनी तपस्थली चुना और श्री दरबार साहिब में लोक कल्याण के लिए विशाल झंडा लगाकर श्रद्धालुओं को ध्वज से आशीर्वाद लेने का संदेश दिया था। होली के पांचवें दिन चैत्रवदी पंचमी को श्री गुरु रामराय महाराज के जन्मदिवस के रूप में मनाया जाता है।

The post 22 मार्च को श्री झंडेजी के आरोहण के साथ शुरू होगा मेला, दो साल बाद इस बार पूर्ण स्वरूप में लगेगा ऐतिहासिक झंडा मेला appeared first on Bharatjan Hindi News, हिंदी समाचार, Samachar, Breaking News, Latest Khabar.

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!