उत्तराखंड : नारी शक्ति का स्वरूप है, समाज में कर सकती हैं चमत्कारिक परिवर्तन

टिहरी: अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर बतौर मुख्य वक्ता अतिथि प्रो. प्रीति कुमारी ने व्यक्त किए। नारी शक्ति का प्रतीक है और यदि समर्पित भाव से कुछ कर गुजरने की ठान ली तो वह स्वयं समर्थन होने के साथ-साथ समाज में चमत्कारिक परिवर्तन कर सकती है।

उल्लेखनीय है कि धर्मानंद उनियाल राजकीय महाविद्यालय नरेंद्र नगर में आज अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर सदैव सुमन उत्तराखंड विश्वविद्यालय की ऋषिकेश परिसर की गृह विज्ञान विभाग की विभागाध्यक्ष एवं राजकीय महाविद्यालय नरेंद्र नगर की पूर्व प्राचार्य प्रीति कुमारी मुख्य वक्ता के रूप में शिरकत कर रही थी।

उन्होंने महिला दिवस की प्रासंगिकता को इंगित करते हुए कहा कि पूर्व समय में महिलाओं के साथ भेदभाव के कारण इस दिवस की आवश्यकता महसूस हुई उन्होंने वर्तमान समय में पुरुष समाज द्वारा मिल रहे सहयोग पर संतोष प्रकट किया।

कार्यक्रम की विशिष्ट अतिथि श्री देव सुमन अस्पताल नरेंद्र नगर की स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉक्टर पूजा ने। मैन्सुरल हेल्थ, पेल्विक इन्फ्लेमेटरी डिजीज, वेजाइनल डिसचार्ज, सर्वाइकल कैंसर आदि बीमारियों की जानकारी और निदान के तरीकों पर चर्चा की। उन्होंने पर्सनल हाइजीन को अच्छी सेहत के लिए आवश्यक बताया। डेंटिस्ट डॉ. दीपाली ने दांतो की स्वास्थ्य पर महत्वपूर्ण जानकारी साझा की।

विदित हो कि 1908 में अमेरिका के न्यूयॉर्क शहर में काम के घंटों, बेहतर वेतन एवं वोटिंग अधिकार को लेकर 15000 महिलाओं की प्रदर्शन से महिला दिवस मनाने की शुरुआत हुई।

अमेरिका की सोशलिस्ट पार्टी ने सबसे पहले राष्ट्रीय महिला दिवस मनाने की घोषणा की थी जर्मन मार्क्सवादी कार्यकर्ता क्लारा जेटकिन ने सन 1910 में इसे अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मनाए जाने का प्रस्ताव रखा जिसे स्वीकार कर लिया गया संयुक्त राष्ट्र संघ द्वारा भी 1975 इसे आधिकारिक रूप से मनाया जा रहा है।

कार्यक्रम के आयोजन सचिव डॉ. ईरा सिंह कालेज प्राचार्य डॉ. उमेश चंद्र मैठानी ऋषिकेश परिसर सीआई विशिष्ट अतिथि डॉ. पारूल मिश्रा आदि ने भी महिलाओं की दशा, दिशा एवं सामर्थ्य पर अपने विचार प्रकट किए।

इस अवसर पर छात्रों के लिए अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस की थीम”जेंडर इक्वलिटी टुडे फॉर सस्टेनेबल टुमारो”पर आधारित रंगोली पोस्टर एवं क्विज प्रतियोगिता का आयोजन किया गया।

जिसमें, रंगोली में दीपक ड्योढ़ी, शिवानी पुंडीर प्रथम आरती पुंडीर प्रिया प्रियांशी रावत द्वितीय एवं कोमल नेहा थापा एवं नेहा तृतीय रहे

पोस्टर प्रतियोगिता में दीपक ड्योढ़ी, शिवानी पुंडीर प्रथम प्रियांशी रावत द्वितीय एवं ईशांत सिंह तृतीय रहे। वहीं क्विज में मयंक बिष्ट मयंक खत्री एवं सिमरन ओझा क्रमशः प्रथम द्वितीय एवं तृतीय रहे।

इससे पूर्व कार्यक्रम की शुरुआत दीप प्रज्ज्वलन एवं अतिथियों का स्वागत पुष्पगुच्छ एवं फूल माला को भेंट कर किया गया। इस अवसर पर बड़ी संख्या में कालेज के प्राध्यापक कर्मचारी एवं छात्र छात्राएं विशेष तौर पर उपस्थित रहे।

नारी शक्ति का प्रतीक है और यदि समर्पित भाव से कुछ कर गुजरने की ठान लें तो वह स्वयं समर्थवान होने के साथ समाज में चमत्कारिक परिवर्तन कर सकती है। यह वक्तव्य आज अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर बतौर मुख्य वक्ता एवं अतिथि प्रोफ़ेसर प्रीति कुमारी ने व्यक्त किए।

The post उत्तराखंड : नारी शक्ति का स्वरूप है, समाज में कर सकती हैं चमत्कारिक परिवर्तन appeared first on पहाड़ समाचार.

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!