उत्तराखंड : युवाओं के सपनों पर फिरा पानी, इस वजह से नहीं कर पाए आवेदन

हरिद्वार: सेवायोजन विभाग की लापरवाही कई युवाओं पर भारी पड़ गई। सत्यापन नहीं होने के कारण कई युवा पटवारी और लेखपाल भर्ती के लिए आवेदन ही नहीं कर पाए। आरोप है कि सेवायोजन कार्यालय में एक सप्ताह से सत्यापन ही नहीं किया गया, जिसके चलते युवा आवेदन ही नहीं कर पाए।

/

गुरुवार को लास्ट डेट तक भी वह आवेदन नहीं कर सके। सेवायोजन विभाग का दावा है कि तकनीकी कारणों से पोर्टल में दिक्कत आई है। काफी समय से सरकारी नौकरी की आस देख रहे प्रदेश के बेरोजगारों को नौकरी का तोहफा देने के लिए सरकार ने पिछले दिनों लेखपाल व पटवारी की भर्ती निकाली थी।

आवेदन के लिए अभ्यर्थियों को जिला सेवायोजन विभाग से सत्यापन कराना अनिवार्य होता है। ताकि, सरकारी आंकड़ों में उसके बेरोजगार होने की पुष्टि हो सके। जिले से बड़ी संख्या में युवाओं ने पटवारी बनने की तैयारी की।

हजारों की संख्या में अभ्यर्थी आवेदन भी कर चुके हैं, लेकिन बड़ी तादाद ऐसी है, जो सेवायोजन विभाग का सत्यापन न होने के कारण आवेदन नहीं कर सके। सेवा का अधिकार कानून के तहत तीन दिन के भीतर सत्यापन करना होता है। लेकिन कई अभ्यर्थियों ने भाजपा पार्षद विनीत जौली को बताया कि उन्होंने एक सप्ताह पहले आवेदन किया था, पर आखिरी तारीख तक सत्यापन नहीं हुआ।

पार्षद विनीत जौली ने जिलाधिकारी विनय शंकर पांडेय को इसमामले से अवगत कराते हुए आरोप लगाया कि हरिद्वार का सेवायोजन विभाग बेरोजगारों के भविष्य से खिलवाड़ कर रहा है।

साथ ही सेवायोजन मंत्री सौरभ बहुगुणा से भी शिकायत की है। जिलाधिकारी ने तत्काल इस बारे में जिला सेवायोजन अधिकारी अनुभा जैन से जानकारी लेकर जरूरी निर्देश दिए।

जिला सेवायोजन अधिकारी अनुभा जैन का कहना है कि BSNL इंटरनेट कनेक्शन कुछ समय के लिए बाधित हो गया था। पोर्टल का 2.0 वर्जन कल लांच हुआ है, डाटा कन्वर्जन के चलते भी साइट को रोक दिया गया था। इसलिए नए रजिस्ट्रेशन में दिक्कत हुई, पुराने सभी रजिस्ट्रेशन को सत्यापित कर दिया गया था। सीएचसी सेंटरों में शायद काम न हो पाया हो।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!